PHOTOS : ये है भारत का सबसे लंबा रेल-सड़क पुल, खूबसूरती में इनका कोई जवाब नहीं

25 दिसंबर को एशिया के दूसरे सबसे लम्बे रेल-सह-सड़क पुल का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंन्द्र मोदी ने किया. आपको बता दें कि ब्रह्मपुत्र नदी पर बने 4.9 किलोमीटर लंबे पुल से असम से अरूणाचल प्रदेश की यात्रा में लगने वाला वक्त काफी घट जाएगा. यह पुल असम के डिब्रूगढ़ जिले में ब्रह्मपुत्र नदी के दक्षिण तट को अरूणाचल प्रदेश के सीमावर्ती धेमाजी जिले में सिलापाथर को जोड़ेगा.

जानकारी के मुताबिक, मौजूदा समय में इस दूरी को पार करने में 15 से 20 घंटे के समय की तुलना में अब इसमें साढ़े पांच घंटे का समय लगेगा. इससे पहले यात्रियों को रेल भी कई बार रेल बदलनी पड़ती थी. इससे अब लोगों को आसानी हो जाएगी.

IMAGE COPYRIGHT : GOOGLE

तिनसुकिया-नाहरलगुन इंटरसिटी एक्सप्रेस तिनसुकिया से दोपहर में रवाना होगी और नाहरलगुन से सुबह वापसी करेगी. इस गाड़ी में 14 कोच होगें और साथ ही चेयर कार होंगे.

IMAGE COPYRIGHT : GOOGLE

ये पुल और रेल सेवा धेमाजी के लोगों के लिए अति महत्वपूर्ण होगी क्योंकि मुख्य अस्पताल, मेडिकल कॉलेज और हवाई अड्डा डिब्रूगढ़ में हैं. यह इलाका नाहरलगुन से केवल 15 किलोमीटर की दूरी पर है, इससे ईटानगर के लोगों को भी लाभ मिलेगा.

IMAGE COPYRIGHT : GOOGLE

दिल्ली और डिब्रूगढ़ के बीच ट्रेन यात्रा में लगने वाला समय करीब तीन घंटा कम होकर 34 घंटा रह जाएगा जो फिलहाल 37 घंटा है.

IMAGE COPYRIGHT : GOOGLE

आपको बता दें कि इस पुल की आधारशिला 1997 में रखी गई थी. निर्माण 2002 में शुरू किया गया था. अब ये पुल 5,900 करोड़ रुपये की लागत बन कर तैयार हो गया है.

IMAGE COPYRIGHT : GOOGLE

इतना ही नहीं, इस पुल से अरुणाचल प्रदेश में सैनिकों की आवाजाही और उन तक सामग्रियों का भेजा जाना भी आसान होगा. पुल का निर्माण से किया गया है.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *