साथ आए कांग्रेस-टीडीपी, राहुल ने चंद्रबाबू नायडू से मुलाकात के बाद कही ये बात

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019 आने से पहले पार्टियों में हलचल देखने को मिलने लगी है। कोई अपने वोट बैंक इकट्ठा करने के लिए दौरा करने औऱ जुमलेबाजी करने की  तरकीब जुटा रहा तो गठबंधन और पार्टी की व्यापकता और कार्यप्रणाली से आकर्षित करने की योजना बनाने में जुटा तो कोई कछ करने में जुटा। जुटे भी क्यों न पांच साल के इंतजार के बाद फिर परीक्षा की बारी जो आ गई है। सभी नेताओं को सीट पाने के लिए लाखों रूपए भी खर्च करने पड़ जाते है।  ये चुनाव सभी नेताओ को लिए खास और भविष्य तय करने वाला चुनाव है।

चुनाव से पहले साझा मोर्चा बनाने की कोशिश में चंद्रबाबू नायडू दिल्ली पहुंचे । जहां उन्होंने राहुल गांधी और शरद पवार से मुलाकात की।  फारूक अब्दुल्ला भी इस मोर्चे के साथ दिखे। राहुल गांधी और चंद्रबाबू नायडू के बीच कई मुद्दों पर चर्चा हुई। सीबीआई, आरबीआई और आधार जैसे मुद्दों पर सरकार के विरोध के लिए साझा न्यूनतम कार्यक्रम की बात भी हुई। मुलाकात के बाद दोनों नेता मीडिया के सामने आए और कहा कि बीजेपी को हराने के लिए विपक्षी दल मिलकर काम करेंगे। राहुल ने कहा कि पार्टियां यह सुनिश्चित करने की दिशा में काम करेंगी कि लोकतांत्रिक संस्थानों पर हमला बंद हो। नायडू से मुलाकात के बाद राहुल गांधी ने यह बयान दिया। चंद्रबाबू नायडू लोकसभा चुनाव में भगवा दल के खिलाफ विपक्षी दलों को एकजूट करने की कोशिश कर रहे हैं।

राहुल ने कहा कि पार्टियां राफेल सौदे में भ्रष्टाचार और बेरोजगारी जैसे सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण मुद्दों पर एकसाथ काम करेंगी। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ‘यह स्पष्ट है कि भ्रष्टाचार हो रहा है. संस्थान जो जांच कर सकते हैं, उन्हें निशाना बनाया जा रहा है। जो सब हुआ उसकी उचित जांच हो, पैसा कहां गया और किसने भ्रष्टाचार किया। मैं इन्हीं चीजों पर ज्यादा जोर दे रहा हूं। देश यह जानना चाहता है।’

चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि उन्होंने सभी राजनीतिक दलों के साथ बातचीत की है। उन्होंने कहा, ‘हम एक साझे मंच पर मिलेंगे और रणनीतियां तय करेंगे।’ एक सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा, ‘आप उम्मीदवारों में रुचि रखते हैं, हम देश में रुचि रखते हैं।’ चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि कांग्रेस के साथ हाथ मिलाना उनकी लोकतांत्रिक मजबूरी है। भारतीय लोकतंत्र खतरे में है। सीबीआई और आरबीआई जैसी संवैधानिक संस्थाओं पर हमले हो रहे हैं। हमने गैर बीजेपी पार्टियों को साथ लेकर एक कॉमन मिनिमम प्रोग्राम तैयार करने का फैसला किया है।

यह मुलाकात ऐसे समय में हो रही है जब दोनों राहुल और नायडू की पार्टियों में तेलंगाना विधानसभा चुनावों में सीट साझा करने पर बातचीत जारी है। तेलंगाना में विधानसभा चुनाव सात दिसंबर को होने वाले हैं। नायडू ने आज राकांपा प्रमुख शरद पवार और नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला से भी मुलाकात की थी। अब देखना यह है कि कौन सी पार्टी लोगों के दिलों पर राज करेंगी। कौन सी पार्टी अपनी बारी का इंतजार….

 

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *