तो क्या भारतीय रुपया है मेड इन चाइना, शशि थरूर ने उठाये सवाल

न्यूज़ रूम : क्या होगा जब आपको पता चलेगा कि नित आपको देशभक्ति का पाठ पढ़ाने वाली सरकार चाइना से इंडियन करेंसी छपवाती हो। और आपका भारतीय रुपया मेड इन चाइना है? शशि थरूर के एक ट्विट ने सवाल खड़े कर दिए हैं। तो क्या वाकई भारतीय नोट चीन में छपते हैं? चीन की मीडिया में आई एक रिपोर्ट तो कुछ ऐसा ही इशारा कर रही है। यही वजह है कि कांग्रेस नेता शशि थरूर ने सरकार से स्पष्टीकरण की मांग की। दरअसल, साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत, नेपाल, बांग्लादेश, मलयेशिया, थाइलैंड समेत कई देशों की करंसीज चीन स्थित प्रिंटिंग प्रेसों में छापी जा रही हैं।

यह रिपोर्ट बेल्ट ऐंड रोड प्रॉजेक्ट की वजह से चीन में अन्य देशों के नोट प्रिंटिंग के बढ़ते कारोबार और वहां की अर्थव्यवस्था पर इसके असर से संबंधित है। इसमें भारत का भी जिक्र है। हालांकि सरकार की तरफ से फिलहाल इस बात की पुष्टि नहीं हुई है कि क्या वाकई भारतीय नोट चीन में छपते हैं या नहीं।

हालांकि, इस रिपोर्ट पर कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने इसे भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बताते हुए सरकार से स्पष्टीकरण मांगा है। उन्होंने केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली और पीयूष गोयल को टैग करते हुए ट्वीट किया, ‘अगर यह सच है तो इसका राष्ट्रीय सुरक्षा पर घातक असर हो सकता है। पाकिस्तान के लिए इसकी नकल करना और आसान हो जाएगा। पीयूष गोयल और अरुण जेटली, कृपया स्पष्ट करें।’

बहरहाल, इस रिपोर्ट की पुष्टि के लिए साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट ने बैंक नोट प्रिंटिंग ऐंड मिंटिंग कॉर्पोरेशन के प्रजिडेंट लियू गुशेंग के 1 मई के एक इंटरव्यू का हवाला दिया है। गुशेंग ने इस इंटरव्यू में बताया था कि साल 2013 से चीन में विदेशी नोटों की छपाई का काम शुरू हुआ और अब यहां की प्रिटिंग प्रेसों में भारत, नेपाल, बांग्लादेश, श्रीलंका, मलयेशिया, थाइलैंड, ब्राजील, पोलैंड समेत कई देशों के नोट छापे जाते हैं।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *